बोद्ध प्रतिमायें

भारतीय पीता को बुद्ध और जातक कथक्चओँ के रूप में विषय का अक्षय स्वीत मिला है । चित्रकलक्च और मूर्तिकला में बौद्ध कथाओं का जितना अधिक उपयोग हुआ है उतना किसी और कथा का नही । यद्यपि कुछ लेखक यह मानते हैं कि कुमाऊँ...

शेलधित्र

शिलाचित्र मानव की सुन्दरतम अभिव्यक्ति ही नहीं वरन् उसकी अमूल्यधरोहर भी हैं । माना जा सकता है कि जबसे पृथ्वी पर मनुष्य का जीवनप्रारम्भ हुआ तागे से पीता का भी उतूभव हो गया होगा । कला एक इतिहास ही नहीं वरन् सृजन...

गणनाथ

गणनाब का मंदिर अत्यंत प्राचीन है । यह मंदिर जिलगेडा-लीसानी मार्ग पर रनमन नामक पाँव से मात्र ७ किमी. की दूरी पर है । अल्लेडा-वागेत्वर मार्ग पर ताक्लाज्वा से कुल 8 किसी. दूरी पर है । रामनाथ का मंदिर प्राचीन गुफा...

This week’s hottest